7 Side effects of social media on Youth and Teenagers.

7 Side effects of social media on youth and teenagers
7 Side effects of social media on youth and teenagers

7 Side effects of social media on Youth and Teenagers– अगर आप अपना ज्यादातर वक़्त social media पर बिताते है और अपनी life social media के बिना नहीं सोच सकते है। तो आप social network sites का शिकार बन चुके है और शायद social media platforms के side effects को experience कर चुके है। जिन्हे आप रोज़ाना नज़रअंदाज़ कर देते हैं। Unfortunately, ये side effects हमारी life पर कब और कैसे असर डालते है, हमें पता भी नहीं चलता। तो चलिए जानते है social media के side effects के बारे मैं जिनका जानना हमारे लिए बहुत जरुरी है।

क्यों Social Media आपके लिए गलत है ?

आपको जानकर काफी हैरानी होगी की social media के side effects हम पर mentally और physically असर डालते है। ये हमारा अपने बारे में और दुनियां को देखने के बारे में नजरिया बदल देते है।

Depression

यदि आप घंटों अपना समय social media sites पर बिताते है। तो ये आपके mood पर और सोच पर असर डालता है। जिसके कारण आप depression का शिकार हो सकते है। ये देखा गया है की जो लोग social media के addict होते है वो अपनी health के बारे में कम ही चिंता करते है। उनकी health पर social media के क्या side effects हो रहे है, वे उनसे अनजान रहते है। जिसमें depression सबसे important है।

जैसा की आप जानते है की social media पर हम दूसरों की life से related जानकारी देख सकते है, उनके बारे में जान सकते है। जिसे अक्सर हम अपनी life के साथ compare करते है और जो कभी-कभी हमारे stress का कारण बनता है और हमें depression में ले जाता है।

Fear of Missing ( गुम होने का डर )

Fear of missing एक ऐसा डर है जो हमेशा से हमारे साथ रहता है। और social media के आने से ये ओर भी गहरा हो गया है। For example, आप जब भी कोई photo या post upload करते है तो बार-बार ये check करते रहते है की किसी ने मेरी post या photo देखी या नहीं। या अगर आपने किसी को friend request भेजी है तो दिन भर यही check करते रहते है की उस व्यक्ति ने आपकी request accept की या नहीं। अगर नहीं तो ये सब आपको अपने group में अकेला होने का अहसास कराता है। जो की depression का कारण बन सकता है। ये अहसास उतना ज्यादा गहरा होता जाता है जितना ज्यादा आप social media पर active रहते है और देखते है की आपके group में कोई आपसे ज्यादा famous है और खुश है।

Cyber-bullying

Bullying होना किसे कहते है , शायद हम सब जानते है। हममें से कईं लोगों ने school और college में इसे face किया है। लेकिन social media के आने से इसने नया रूप ले लिया है। अब लोग online platform पर लोगों को bullying करते है। जिसे cyber bullying कहते है।

Cyber Bullying
Cyber bullying

Social media पर लोग रोज़ाना दोस्त बना लेते है। जिनमें से कुछ अच्छे होते है और कुछ बुरे होते है। बुरे लोग social media को एक हथियार की तरह use करते है और social media इसे बहुत आसान बना देता है। कईं लोग सोशल मीडिया पर आसानी से दूसरों पर विश्वास कर लेते है। पर वे यह नहीं जानते की कोई व्यक्ति fake profile के साथ उन्हें use कर सकता है और फसा सकता है। Cyber bullying case कुछ समय में ही इंसान के दिमाग पर गहरी चोट छोड़ देते हैं, जो हमारे ज़हन में सारी उम्र रहते हैं।

झूठा दिखावा।

हम social media पर बहुत से लोगों को follow करते है, उनसे प्रभावित रहते है। दिन रात उनके lifestyle को जानने की कोशिश करते रहते है। लेकिन हम यह नहीं जानते की उस व्यक्ति का असली व्यक्तित्व कैसा है। Social media पर रोज़ाना लोग अपने friends और relative के साथ फोटो शेयर करते रहते है और दिखाते है की हम अपनों की बहुत care करते है। पर असल में उनका रिश्ता अपनों के साथ कैसा है कोई नहीं जानता। या social media पर दिखने वाला adventures इंसान कितने कर्ज़े में डूबा है ये भी आप नहीं जानते। पर जब हमें उनकी असलियत का पता चलता है तो हमें अपने आप पर गुस्सा आता है की क्यों मैंने उसे follow किया।

Negative body image

Social media पर Instagram की बात करें तो कितने ही celebrity रोज़ाना अपने expensive कपड़ो के साथ अपनी perfect body में photo share करते रहते हैं। इन celebrity को रोज़ नए avatar में देखना आपको ये अहसास कराता है कि एक दिन हम भी वैसे दिख सकते हैं। लेकिन हम सब जानते है की ये सच्चाई से कितना दूर है।

हमें ये जानना जरुरी है की हर कोई super model नहीं बन सकता और अगर कोई बना है तो इसके पीछे उसकी सालों की मेहनत है। लेकिन कईं लोग ये सब न सोचकर कुछ unhealthy routine अपना लेते है जो उनके लिए गलत साबित हो सकता है।

Poor sleep pattern

Poor sleep pattern
Poor sleep pattern

देर रात तक social sites पर active रहने से हम depression के साथ poor sleep pattern का भी शिकार बन जाते है। कईं studies में ये पता चला है की देर रात तक social media पर active रहने से आपकी quality नींद पर असर पड़ता है। जो आगे चलकर health issue create कर सकता है। Poor sleep pattern आपकी productivity पर भी असर डालता है।

दिन भर की मेहनत के बाद हम जब रात में सोने जाते है तो 5 मिनट के लिए social sites को check करने की सोचते है जो कब घंटों में बदल जाता है हमें पता नहीं चलता। और पता चलता है की हम बिना बात के ही scroll किये जा रहे है। जिसके कारण हमारा sleep pattern ख़राब हो जाता है।

Phone addiction

क्या आपको कभी महसूस हुआ है की आप कुछ मिनटों बाद ही आप अपनी social sites को check करना शुरू कर देते है, चाहे उसमें कुछ नया content भी मौजूद ना हो। ये phone addiction कहलाता है। जो उतना ही घातक है जितना cigarette और alcohol को पीना। इससे आपका productive time waste होता है। तो कोशिश कीजिये बिना सोचे समझे social sites को चेक न करें और फ़ोन को हाथ न लगाएं।

Conclusion

दोस्तों आज हमने अपने article 7 Side effects of social media on Youth and Teenagers की मदद से social media के negative effects बताने की कोशिश की है। हम जानते है की हर बात के दो पहलु होते है, अगर सोशल मीडिया के कुछ नुकसान है तो इसमें कुछ अच्छाई भी है। पर हमें कोशिश करनी चाहिए की हमें social media का use limit में करना चहिये।

अगर आपको हमारा article पसंद आया हो तो please इसे अपने friends, relatives और आस पड़ोस में जरूर शेयर करें, ताकि उन तक भी ये जानकारी पहुँच सके और वे भी इसका लाभ प्राप्त कर सकें।

अंत में, आप अपने सुझाव हमें कमेंट करके बता सकता है। हमें आपके सुझावों का इन्तेज़र रहेगा।

नमस्कार दोस्तों , मैं कुमार गौरव , techhind में writer हूँ। शिक्षा की बात करूँ तो मैं एक इंजीनियर हूँ। Techhind के माध्यम से मैं आपको technology से related नईं और सही जानकारी प्रदान करने की कोशिश करता हूँ। मेरा आप से अनुरोध है की आप हमें सहयोग देते रहें और हम आपको नईं और helpful जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here