नईं वेबसाइट के लिए SEO कैसे करें : Step by step guide

नईं वेबसाइट के लिए SEO कैसे करें
नईं वेबसाइट के लिए SEO कैसे करें

नईं वेबसाइट के लिए SEO कैसे करें : Step by step guide.हम सभी जानते है की किसी भी वेबसाइट को google में रैंक कराना कोई आसान task नहीं है। और यह तब ओर भी मुश्किल हो जाता है जब आपकी वेबसाइट बिल्कुल नईं हो। लेकिन सही strategy और information के साथ हम इस problem का हल निकल सकते हैं। पर मुश्किल तब आती है जब हम सही जानकारी ना होते हुए अपनी वेबसाइट का SEO करने की कोशिश करते हैं और हमें success नहीं मिल पाती है।

कितने ही बड़े business हैं जो सही SEO के बारे में नहीं जानते हैं। वे नहीं जानते हैं की SEO कैसे करें और कहाँ से शुरू करें। सही SEO technique की जानकारी ना होने से आप अपनी website की presence खो सकते हैं। जिसका मतलब है की online दुनियाँ में आपकी कोई existence नहीं है और आपके बारे में कोई नहीं जानता है।

यहां हम आपको यह भी बताना चाहेंगे की सही SEO की जानकारी हासिल करने के लिए आपको सालों मेहनत करने की जरुरत नहीं है। बस आपको सही strategy और tool की जानकारी होनी चाहिए, जिससे आप आसानी से अपनी से अपनी site को rank करा सकते हैं।

Search Engine की priority क्या है ?

कुछ भी जानने से पहले आपको यह समझने की जरुरत है की Search engines की priority क्या है। Search engine क्या search करता है और क्या दिखाता है।

तो सबसे पहले आपको यह समझना होगा की कोई भी search engine चाहे वो google, bing या yahoo हो। सभी के सभी user friendly हैं। ये सभी search engine, user को वही दिखाते हैं जो उसकी search से सबसे ज्यादा relevant हो। पर सवाल यह उठता है की search engines सबसे relevant जानकारी कैसे ढूंढते है और किस priority के साथ user की search को उसके सामने present करते हैं।

इसके लिए आपको चार सबसे important points के बारे में जानना होगा। जो यह बताते हैं की कौन सी website सबसे ज्यादा relevant है और क्यों इसे rank कराना चाहिए।

Content :- आपके पोस्ट का content सबसे ज्यादा मायने रखता है की यह user की search से relevant है या नहीं।

Site Speed :- क्या आपकी website की loading speed fast है और क्या यह सही तरीके से काम करती है ?

Authority :- आपकी website की authority क्या है। क्या site पर available content दूसरी site के साथ link करने के लिए उपयोगी है या दूसरी sites आपकी website के साथ link होना चाहती है या नहीं ?

User experience :- आपकी site का look कैसा है। क्या यह user friendly है ? क्या user आपकी site पर आसानी से navigate कर सकते है और site पर available information को पढ़ सकते हैं ?

यह कुछ main points हैं जो आपको ध्यान में रखने होंगे जब आप अपनी website का SEO करेंगे।

नईं website के लिए SEO कैसे करें- How to do SEO for new website ?

किसी भी website का SEO करने के लिए patience और consistency की जरुरत होती है। लेकिन यह patience तब साथ छोड़ देता है जब कुछ सप्ताह, महीने बीत जाने पर भी कुछ result हासिल नहीं हो पाता और हमारी साइट पर visitor नहीं आ पाते।

आज हम अपने इस पोस्ट में कुछ ऐसी information share करने की कोशिश करेंगे जो आपको आपकी website का सही SEO करने में help करेंगी।

#1. Bounce rate

आपकी website को google में rank कराने में bounce rate की importance काफी मायने रखती है।

जब कोई भी visitor आपकी website से सिर्फ एक पेज देखने के बाद exit कर जाता है। तो यह bounce rate में count होता है और इससे bounce rate increase होता है, जो आपकी website की performance पर असर डालता है।

  • 26% से 40% – अगर आपकी वेबसाइट का bounce rate 26 से 40% के बीच में आता है तो आपकी साइट excellent category में आती है।
  • 41% से 55% – इस bounce rate के साथ आपकी वेबसाइट को average rating दी जाती है।
  • 56% से 70% – इतना bounce rate किसी भी website के लिए normal rate से थोड़ा है। लेकिन यह वेबसाइट के content पर भी depend करता है।
  • 70% से ज्यादा – Bad. 70% से ज्यादा का bounce rate आपकी website को bad category में लेकर जाता है। इससे पता चलता है की आपकी वेबसाइट पर बहुत काम करने की जरुरत है। चाहे वह उसकी performance से related हो या visibility से related.

अपनी वेबसाइट का bounce rate check करने के लिए आपको google analytic का सहारा लेना होगा जहाँ से आप यह जान सकते हैं की आपकी website का bounce रेट क्या है।

Bounce rate क्यों मायने रखता है ?

Google, daily basis पर लाखों, करोड़ों user के behavior को analyze करता है। गूगल यह data collect करता है की user क्या search कर रहें है और किन websites से information हासिल कर रहे हैं। अगर users अपनी search से related जानकारी के लिए किसी वेबसाइट के सिर्फ एक पेज से exit कर जाते हैं तो गूगल यह समझता है की वो वेबसाइट user को सही information provide नहीं कर पा रही है

According to google :- Bounce rate basically user का आपकी website पर बिताया हुआ वो समय है जिसमें वो आपकी website का एक ही पेज view करता है। जिसके कारण google analytic server एक page view की request ही read कर पाता है।

High bounce rate के कारण

यह मायने नहीं रखता है की visitors आपकी website पर 3 सेकंड रुकते हैं या 10 मिनट, अगर वो एक पेज से ही वापिस हो जाते हैं तो भी यह bounce रेट में count होता है। किसी भी website का ज्यादा bounce रेट google के serp में गलत impression create करता है।

Slow loading page

आपको यह समझना होगा की google fast loading site को ही preference देता हैं। अगर आपकी website loading speed slow है तो यह user को poor experience feel कराती है। और वो आपकी website से exit कर जाते हैं। जिससे आपकी वेबसाइट का bounce rate बढ़ता है।

Confusing Meta description & title

आपके पोस्ट का title और meta description ही है जो google Serp को attract करता है और जिसके कारण user आपके post click करते हैं। लेकिन अगर आपके post में लिखा हुआ content आपके meta description से relate नहीं करता है तो यह user को frustrate कर सकता है। जिससे वह exit कर सकते हैं।

Technical error

अगर आपकी site पर bounce rate की percentage काफी ज्यादा है। तो यह technical error create कर सकती है। For example:- 404 और blank page. इस problem को दूर करने के लिए आपको अपनी site को सभी devices और सभी browsers पर test करना होगा।

Bad link

अगर आपकी वेबसाइट किसी ऐसे link से connected है जहाँ से आपको high bounce rate मिल रहा है। तो यह आपके लिए problem की बात है। तो आप हमेशा अपने back link को check करते रहें और कोशिश करें की किसी reputed साइट से ही link generate करने की।

Low quality content

कभी-कभी ज्यादा bounce rate होने का कारण आपके content की poor quality भी हो सकता है। बड़े से बड़े writers के post भी कभी-कभी poor quality के होते हैं जो उनकी site की performance पर effect डालते है।

Content लिखते समय आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जैसे की :-

  • आपका content short हो और simple sentence के साथ बना हो
  • आज के time में maximum users आपके content को पढ़ने की बजाए Scan करते हैं। तो कोशिश करें आपके कन्टेंट में proper bullet points हो और सही tags present हों।
  • एक अच्छी image आपके content की readability बढ़ाती है। तो कोशिश करें पोस्ट में एक अच्छी visual image use करें।

Poor UX design

अधिकतर user जब आपकी website पर आते हैं तो वे clean information expect करते हैं। वे चाहते है की आपकी साइट पर सभी जानकरी बिल्कुल स्पष्ट दिखाई दे और वे आसानी से navigate कर सकें। For example :- आपकी साइट का menu bar और search bar सही visual हो जिनसे उन्हें जानकारी हासिल करने में कोई परेशानी न हो।

Mobile responsive

आज के time में maximum user mobile पर ही information search करते है। और अगर आपकी साइट mobile responsive नहीं है तो ये user को bad experience feel कराती है। तो यह भी एक कारण बन सकता है bounce rate increase होने का।

Friends यहाँ आपको यह समझना होगा की अगर आपकी वेबसाइट का bounce rate ज्यादा है तो आपको अपनी साइट को google में rank कराने में काफी परेशानी आ सकती है। हमेशा साइट के bounce rate पर ध्यान देते रहें और इसे improve करते रहें।

#2 . Focus on returning visitors

अगर कोई visitor आपकी वेबसाइट पर visit करता है और थोड़े time के बाद दोबारा कुछ जानकारी हासिल करने के लिए आता है तो गूगल उस visitor को returning visitor कहते हैं। और यह returning visitor आपके लिए और आपकी website के लिए किसी फ़रिश्ते से कम नहीं है। तो हमेशा कोशिश करते रहें इन returning visitors को बाँधे रखने में।

तो वे क्या कारण जिनसे आप returning visitors को value provide कर सकते हैं और इनके नम्बर को increase कर सकते हैं। चलिए जानते हैं :-

हमेशा नए content को लेकर आएँ

हम सभी जानते है की अगर आपकी site पर कुछ fresh और नया कंटेंट होगा जिससे user को फायदा होगा तो वो आपकी site पर बार-बार आना पसंद करेंगे। तो हमेशा अपनी audience को कुछ नया present करते रहें जिनसे उनका interest बना रहे।

Social media पर active रहें

आपकी website का content एक part है लेकिन आपको यह भी समझना होगा की जितना जरुरी आपका content है। उतना ही जरुरी उसकी marketing करना भी है। तो हमेशा social media पर active रहें और अपनी audience के साथ touch बना कर रखें। जिससे आपके पुराने visitors आपके साथ बने रहें।

Email marketing

अपने पुराने visitors के साथ हमेशा contact बना कर रखने में email marketing एक बहुत बड़ा रोल play करती है। तो कोशिश करें की अपनी साइट पर एक अच्छा newsletter तैयार करें। जिससे आप पुराने visitors के साथ नए visitors की जानकारी भी हासिल कर पाएं और उन्हें time to time अपनी website से related जानकारी भी provide कर सकें।

#3. E.A.T ( Expertise -Authority -Trustworthiness )

किसी भी site को रैंक करने के लिए गूगल E.A.T factor पर काम करता है।

Expertise

User आपकी website पर तभी रुकता है जब उसे आपके content से आपकी knowledge और experience का पता चलता है और google भी इसी factor पर काम करता है। गूगल user के visit time और site preference से यह समझने के कोशिश करता है की आपका content कितना knowledgeable और relevant है।

Expertise के लिए इन बातों पर ध्यान दें :-

  • यह जानने की कोशिश करें की आपकी audience क्या जानकारी हासिल करना चाहती है और फिर उनकी expectations पर खरा उतरने के कोशिश करें।
  • आपकी audience की search और आपके keyword में connection होना चाहिए।
  • आपकी website पर मौजूद content एक readable form में होना चाहिए। जो आसानी से सभी को समझ आ सके।

Authority

जब दूसरे brands और experts आपकी site से जुड़ना चाहते हैं और आपकी site को एक source की तरह use चाहते हैं। तो यह आपकी authority को बढ़ाता है।

अपनी authority बढ़ाने के लिए इन बातों का ध्यान रखें :-

  • हमेशा उन्हीं website से link हासिल करने की कोशिश करें जो high authoritative और relevant हो। यह आपकी site की domain authority को भी बढ़ाता है।
  • अगर आपका content, social media पर share किया जा रहा है। तो यह आपकी साइट की authority बढ़ने का अच्छा sign है
  • अगर ज्यादा से ज्यादा लोग आपकी website को एक ब्रांड के रूप में देखते हैं और search करते हैं तो यह भी आपकी authority को बढ़ाता है।

Trustworthiness

Expertise और authority के अलावा trustworthiness भी आपकी website के SEO में important factor रखता है।

User आपकी वेबसाइट और content पर तभी trust करता है। जब उसे यह जानकारी हो की यह information सही source से आ रही है। अपनी साइट की trustworthiness बढ़ाने के लिए इन points पर ध्यान दें।

  • अपनी website पर अपनी पूरी contact detail डालें ताकि user आपसे आसानी से contact कर सके।
  • अपने हर article में अपनी author बायोग्राफी जरूर add करें। जिससे user को आपके बारे में पता चल सके।
  • कोशिश करें की अपनी वेबसाइट पर physical location provide सकें। जैसे अपने office का address या business की details.
  • Terms & conditions को add करें।
  • Privacy policy का page add करें।

#4. Focus on people rather than search engine

सही SEO का मतलब search engine के बारे में सोचकर लिखना नहीं है। बल्कि लोगों की search और interest के बारे में सोचकर लिखना है। हमेशा कोशिश करें की आपके keyword research और content लोगों की search से related हो।

आपको यह समझना होगा की google का algorithm रोज़ाना लाखों करोड़ों लोगों के search behavior को analyze करता है और लोगों के search result के हिसाब से ही काम करता है। इसलिए आपका article और keyword लोगों की search के हिसाब से होना चाहिए। जिससे आपको जल्दी और ज्यादा result मिल सके।

#5. Make yourself brand

हमेशा खुद को brand बनाने की कोशिश करें, क्योंकि SEO time के साथ change होता रहेगा। लेकिन लोग हमेशा brand को preference देते रहेंगे।

अगर आपने अपनी वेबसाइट को एक brand बना लिया तो आपकी website पर ट्रैफिक increase होता रहेगा और industry में आपकी value भी बढ़ेगी। लेकिन खुद को brand बनाने के लिए आपको लोगों की expectation पर खरा उतरना पड़ेगा। उन्हें समझना होगा, उनकी search को समझना होगा।

#6. Code Optimization

अपने पोस्ट लिखते समय आपको यह भी देखना होगा की कैसे अपने site code को सही तरीके से optimize करना है। ताकि search engine को पता चल सके की आपका कंटेट क्या है और उसे आसानी से analyze कर सके। चलिए जानते है की कैसे आप अपनी website के code को optimize कर सकते हैं।

SEO friendly URL

आपका URL आपकी site optimization में बहुत important role play करता है। अगर आपके URL में नम्बर या sign available है तो यह user की तरह search engine को भी confuse कर सकता है की आपका article किसके बारे में है। तो हमेशा अपना URL simple और readable फरमाते में रखें।

Title tag

अपनी साइट के हर page का title टैग बनाएं। क्योंकि title tag ही है जो लोगों को यह बताता है की आपके page पर क्या information available है।

तो हमेशा अपने पेज का एक unique title tag बनाएं और उसमें अपने topic से related नाम add करें।

Meta Description

Meta description आपके content की summary को represent करता है और यह search engine में आपके title tag के साथ दिखाई देता है। यह आपके पोस्ट का first impression होता है जिससे user को पता चलता है की आप क्या information बताना चाहते हैं।

Headings

अपना कंटेंट लिखते समय सही heading का use करें। जिससे user के साथ-साथ google boats को भी पता चल सके कि आपका पोस्ट किसके बारे में है और आपकी site को rank होने में help मिल सके।

Alt tags

Google के boats image को नहीं देख सकते हैं। वे image के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए उसके tags को study करते हैं और जानने कोशिश करते हैं की image पर क्या information available है।

तो हमेशा अपने पोस्ट में available image को Alt tag लगाना ना भूलें। आप Alt tag में अपने keyword को भी use कर सकते हैं।

Interlinking

Site को rank कराने में interlinks भी बहुत अहम role play करते हैं। अगर आपने अपने एक पोस्ट को दूसरे पोस्ट के साथ interlink किया है तो यह आपकी साइट और कंटेंट की value को बढ़ाता है। और user को आपकी site पर मौजूद दूसरी information के बारे में आसानी से बताता है जिससे उसे आपकी site पर navigate करने में मदद मिलती है।

Conclusion

अगर आप इस article में बताए हुए steps को follow करते हैं तो यह आपकी site का एक अच्छा base तैयार करने में मदद करेगा। जिससे आपको अपनी साइट पर organic traffic बढ़ाने में मदद मिलेगी।

लेकिन यहाँ आपको यह भी समझना होगा की SEO में कोई shortcut नहीं है। इसके लिए मेहनत और लगन की भी जरुरत है।

हम उम्मीद करते हैं की आपको हमारा article नईं वेबसाइट के लिए SEO कैसे करें : Step by step guide जरूर पसंद आया हो। और अगर आपकी इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई query है या आप कोई suggestion देना चाहते है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएँ।

नमस्कार दोस्तों , मैं कुमार गौरव , techhind में writer हूँ। शिक्षा की बात करूँ तो मैं एक इंजीनियर हूँ। Techhind के माध्यम से मैं आपको technology से related नईं और सही जानकारी प्रदान करने की कोशिश करता हूँ। मेरा आप से अनुरोध है की आप हमें सहयोग देते रहें और हम आपको नईं और helpful जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here